पिलो यानी तकिया भी दे सकता हैं परेशानी तो फिर रखें सावधानी. Image: pexels-vincent-rivaud
स्वास्थ्य

तकिया भी डाल सकता है आपके आराम में खलल, जानें कैसे और क्यों?

पिलो यानी तकिया भी दे सकता हैं परेशानी तो फिर रखें सावधानी. Image: pexels-vincent-rivaud

कभी सोचा है आराम देने वाला तकिया (Pillow) भी आपको परेशानी में डाल सकता है. उसकी भी एक उम्र होती है. तो फिर जानिए कब और क्यों बदलना (Replace) चाहिए आपको पिलो.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    February 23, 2021, 10:43 AM IST

अपने फेवरेट पिलो (Pillow) यानी तकिए के लिए कभी न कभी आपने भी पिलो फाइट की ही होगी,लेकिन जब रातभर इसी तकिए पर सिर रखकर सोने के बाद सुबह आपको थकावट महसूस होती है, तो समझ लीजिए अब इसकी उम्र हो चुकी है और इसे बदलने (Replace) का वक्त आ गया है. तकिए का असली काम सोते वक्त गर्दन को सहारा देते हुए शरीर का पोश्चर सही बनाए रखना है. यह सोते वक्त स्पाइनल एलाइनमेंट (spinal alignment) सही रखता है. पुराने और खराब क्वालिटी के तकिए के इस्तेमाल से मसल्स पेन भी हो सकता है.ऐसे में आपके लिए तकिया खरीदने से लेकर उसे कब रिटायर करना चाहिए इन सब बातों के बारे में जानना जरूरी हो जाता है. हम यहां आज यही बताने जा रहे हैं कि तकिए को कब कह दें अलविदा.

कब कहें अलविदाः  

जब आपको तकिए पर सिर रखते ही ऐसा लगने लगे कि इसमें गांठ जैसा कुछ चुभ रहा है. या फिर तकिया उठाते ही उसके अंदर भरी रूई या फॉम एक तरफ सरकने लगें. तकिए के इस्तेमाल से पहले उसे शेप में लाने की जरूरत महसूस हो तो समझ जाएं कि तकिया दम तोड़ने लगा है. इस तरह का तकिए लगाकर आप विशेष तौर पर सुबह गर्दन या कंधों में दर्द के साथ उठते हैं, तो इस खराब तकिए को तुरंत बदल डालें. आपको कई तरह के शैप (Shape) के तकिए बाजार में मिल जाएंगे, लेकिन खरीदें वही जो आपको चैन की नींद देने में मददगार हो.

इसे भी पढ़ेंः डिलीवरी में बच्चा चाहते हैं हेल्दी तो पैरों के बीच तकिया लगाकर सोएं, रिसर्च में हुआ खुलासाजी हां तकिया भी उम्रदराज होता हैः  

आपको ये जानकार हैरानी होगी कि तकिए की भी अपनी एक उम्र होती है. मसलन कोई भी तकिया औसतन 18 से 24 महीने तक ही काम दे सकता है, इसलिए हर दो साल में तकिए को जरूर बदल लेना चाहिए.

टेस्ट से जाने तकिए का हालः  

अगर आपको ये समझ नहीं आ रहा है कि आपको अपना फेवरेट तकिया फेंकना चाहिए या अभी और चलाना चाहिए तो इसका हाल जानने के लिए एक सिंपल सा टेस्ट करें. मुश्किल से 30 सेकेंड का ये टेस्ट आपको तकिए की तबियत बता देगा. इसके लिए तकिए को बीचों बीच से मोड़ें और 30 सेकेंड्स तक दबाकर छोड़ दें. अगर तकिया दोबारा से  अपने पुराने शैप नहीं आता, तो समझ जाएं कि आपको अपना तकिया बदलने की जरूरत है.

ऐसा  हो तकियाः  

तकिया ऐसा होना चाहिए जिससे आपकी रीढ़ की हड्डी सही स्थिति में रहें जो सोते वक्त आपकी पीठ और गर्दन दोनों को सहारा दे. बेहद कठोर, नरम या बहुत लंबे शैप के तकिए लगाने से बचना चाहिए.इस तरह के तकिए  आपकी गर्दन को विषम स्थिति में डालकर आपकी पीठ और गर्दन में दर्द की वजह बन सकता हैं. तकिया ऐसा होना चाहिए जो आपके सिर को थोड़ा ऊंचा रखते हुए आपकी गर्दन,पीठ, सिर और कंधों को सपोर्ट दे. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं.Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)






Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *