डेंगू में कारगर हैं ये होम्योपैथिक दवाएं, कोई साइड इफेक्‍ट नहीं
स्वास्थ्य

डेंगू में कारगर हैं ये होम्योपैथिक दवाएं, कोई साइड इफेक्‍ट नहीं | health – News in Hindi

डेंगू (Dengue) एक खतरनाक बीमारी है, जो किसी संक्रमित मच्छर (Mosquito) के काटने से होती है. डेंगू में मरीज को तेज बुखार, सिर दर्द, आंखों में दर्द होना, उल्टी आना और मसूड़ों से खून निकलना आदि लक्षण होते हैं. डेंगू वह खतरनाक वायरस (Virus) होता है, जिसमें मरीज की व्हाइट ब्लड सेल्स (White Blood Cells) की संख्या बहुत ही कम होने लगती है. इस बीमारी में होम्योपैथिक उपचार (Homeopathic Treatment) बेहद कारगर होता है. होम्योपैथिक दवाओं के मरीज पर कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होते हैं. साथ ही यह दवाएं बीमारी को जड़ से खत्म कर देती हैं. आइए जानते हैं इन होम्योपैथिक दवाओं के बारे में-

ब्रयोनिया
ब्रायोनिया होम्योपैथिक दवा को वाइल्ड हॉप्स के नाम से भी जाना जाता है. डेंगू के मरीज को अगर चिड़चिड़ापन, तेज सिर दर्द, आंखों में चुभन, मुंह सूखना और मांसपेशियों में अत्यधिक दर्द होने जैसे कोई भी लक्षण हों तो उनके लिए यह दवा काफी असरदार होती है.ये भी पढ़ें – कोरोना रोकने में मददगार है फेस मास्‍क, 25 फीसदी कम हुए मामले

कल्केरिया कार्बोनिका
कल्केरिया कार्बोनिका डेंगू के मरीज को तब दी जाती है, जब उसे छाले या छोटे-छोटे घाव, चकत्ते या फोड़े जैसे कोई भी लक्षण होते हैं. इसके अतिरिक्त दोपहर के बाद एकदम से ठंड लगना, टॉन्सिल में सूजन होना, छाती में भारीपन लगना और साथ ही मानसिक थकान महसूस होना आदि लक्षणों के लिए भी एक कारगर दवा के रूप में कार्य करती है.

बेलाडोना
बेलाडोना का सामान्य नाम डेडली नाइटशेट भी है. जिन मरीजों को सांस लेने में कठिनाई के साथ पेट में ऐंठन और गर्दन में अकड़न जैसे कोई भी लक्षण महसूस होते हैं, तो उनके लिए यह दवा काफी फायदेमंद मानी जाती है.

युपोरीटियम परफॉली
यह होम्योपैथिक दवा डेंगू के उन मरीजों को दी जाती है, जिन्हें आंखों की पुतलियों में दर्द होता है इसके साथ ही लेटने पर सिर दर्द होना, रोशनी में आंखें दर्द करना, रात में अत्यधिक खांसी आना, शाम को ठंड लगना, बदन दर्द होने के साथ ही हड्डियों में दर्द जैसे लक्षण पाए जाते हैं. इस दवा के उपयोग से मरीज को आराम मिलता है.

नक्स वोमिका
जिन मरीजों को चिड़चिड़ापन, गले में जकड़न और ठंड लगने के साथ बुखार आता है. इसके अतिरिक्त खांसने पर सिर दर्द होना, मसूड़ों में सूजन होना आदि सभी लक्षणों में यह कारगर दवा होती है.

ये भी पढ़ें – कोरोना वायरस से पड़ रहा पुरुषों के सेक्स हॉर्मोन्स पर असर, जानिए

डेंगू के मरीज अपनी दिनचर्या में भी करें बदलाव
चाहे कोई भी बीमारी हो, होम्योपैथी में डॉक्टर द्वारा दिनचर्या में परिवर्तन के लिए सलाह दी जाती है. होम्योपैथिक दवाएं शरीर में असर कर सके, इसलिए डॉक्टर की सलाह को अपनाना मरीज के लिए बेहद जरूरी होता है. इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि डेंगू मरीज के आसपास का वातावरण साफ रहे. इस दौरान मरीज को भरपूर मात्रा में फाइबर और पोषक आहार देना चाहिए. डेंगू के मरीज के ठीक होने के बाद मरीज एकदम से ठीक नहीं होता है, इसलिए जरूरी है कि वे ठीक होने के तक सामान्य प्राणायाम और व्यायाम को नियमित रूप से करते रहें, इससे बीमारी के दोबारा होने की आशंका कम हो जाती है. इससे मरीज की कमजोरी भी जल्द ही दूर हो जाती है. प्रोटीन युक्त आहार का सेवन ज्यादा करना चाहिए.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, गाय के घी के फायदे और नुकसान पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *