टाइप 3 सी डायबिटीज क्या है? जानें इसके लक्षण, कारण और उपचार
स्वास्थ्य

टाइप 3 सी डायबिटीज क्या है? जानें इसके लक्षण, कारण और उपचार

What is Type 3c Diabetes: आपने टाइप 1, टाइप 2 डायबिटीज (Type 2 Diabetes) के बारे में तो सुना ही होगा. ये दोनों ही बहुत कॉमन डायबिटीज के प्रकार हैं, जिससे अधिकतर लोग ग्रस्त होते हैं. लेकिन, बहुत कम लोग ही टाइप 3 सी डायबिटीज (Type 3c Diabetes) के बारे में जानते होंगे. हालांकि, इससे भी लोग प्रभावित होते हैं, लेकिन यह समस्या जल्दी पकड़ में नहीं आती है. इंद्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल्स (नई दिल्ली) में सीनियर कंसल्टेंट, इंटरनल मेडिसिन डॉ. सुरनजीत चैटर्जी कहते हैं कि टाइप 3 सी डायबिटीज, डायबिटीज (Diabetes) का ऐसा प्रकार है, जो पैनक्रियाज (Pancreas) को नुकसान पहुंचने के कारण हाता है. यह पैनक्रियाज में होने वाली किसी बीमारी के कारण भी हो सकता है. ऐसा तब होता है, जब शरीर में पैनक्रियाज के द्वारा पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन (Insulin) नहीं बन पाता. वैसे, टाइप 3 सी डायबिटीज कोई मान्यता प्राप्त चिकित्सा स्थिति नहीं है. इसे कभी-कभी तब संदर्भित किया जाता है, जब टाइप 2 मधुमेह का निदान किया गया व्यक्ति अल्जाइमर्स डिजीज से ग्रस्त हो जाता है.

टाइप 3 सी डायबिटीज के लक्षण

  • टाइप 3 सी डायबिटीज होने पर बिना किसी कारण के वजन कम होना लगता है.
  • पेट में दर्द रह सकता है.
  • व्यक्ति सामान्य से अधिक थकान महसूस करने लगता है.
  • बार-बार गैस पास करने की समस्या हो सकती है.
  • डायरिया की समस्या परेशान करती है.
  • फैटी या ऑयली स्टूल होने लगता है.
  • हाइपोग्लाइसेमिया यानी ब्लड शुगर कम हो जाता है.

इसे भी पढ़ें: टाइप-1 और टाइप-2 डायबिटीज में क्या है अंतर? जानें कैसे ये शरीर को करते हैं प्रभावित

टाइप 3 सी डायबिटीज के कारण

  • क्रोनिक पैनक्रियाटिटिस- 80 प्रतिशत मामलों में क्रोनिक पैनक्रियाटिटिस (chronic pancreatitis) सबसे मुख्य कारण है टाइप 3 सी डायबिटीज होने का.
  • एक्यूट पैनक्रियाटिटिस- एक्सोक्राइन पैनक्रियाज में अचानक सूजन आना, एल्कोहल के अधिक सेवन या पथरी की वजह से भी हो सकता है.
  • रिलेप्सिंग पैनक्रियाटिटिस- बार-बार पैनक्रियाटिटिस के एपिसोड्स होना.

इसे भी पढ़ें : डायबिटीज के मरीजों को देसी घी खाना चाहिए या नहीं? जानिए क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स

टाइप 3 सी डायबिटीज के जोखिम और उपचार

अगर टाइप 2 डायबिटीज होने पर मरीज ठीक से उपचार नहीं करवाता, तो अंग को नुकसान पहुंचने की संभावना बढ़ जाती है. टाइप 3 सी डायबिटीज के उपचार के लिए मरीज को इंसुलिन देना पड़ता है, इसकी बजाय टाइप 2 डायबिटीज़ में शरीर में इंसुलिन रेजिस्टेंस के उपचार के लिए दवाओं का उपयोग किया जाता है. डॉक्टर लाइफस्टाइल, डाइट में बदलाव लाने की सलाह दे सकते हैं.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.