क्यों मनाया जाता है 'वर्ल्ड वॉइस डे'? जानें इस दिन का इतिहास और महत्व
स्वास्थ्य

क्यों मनाया जाता है ‘वर्ल्ड वॉइस डे’? जानें इस दिन का इतिहास और महत्व

हर वर्ष 16 अप्रैल को दुनिया भर में ‘विश्व आवाज दिवस’ यानी ‘वर्ल्ड वॉइस डे’ मनाया जाता है. ये दिन लोगों को अपनी आवाज के महत्त्व को समझाने के लिए आयोजित किया जाता है. दरअसल, बहुत से लोग अपनी आवाज का मोल नहीं समझते हैं और स्मोकिंग, ड्रग्स एवं चिल्लाने जैसी किसी न किसी वजह से अपनी आवाज को खराब कर बैठते हैं. तो वहीं कुछ लोग किसी बीमारी या दुर्घटना की वजह से अपनी आवाज खो देते हैं.

इसीलिए लोगों को ईश्वर के इस खूबसूरत तोहफे की अहमियत समझाने और उनको अपनी आवाज के प्रति जागरूक करने के लिए ही इस दिन को पिछले कुछ वर्षों से मनाया जा रहा है. आइये जानते हैं ‘वर्ल्ड वॉइस डे’ के इतिहास और इस दिन के महत्त्व के बारे में.

इस दिन का इतिहास
‘वर्ल्ड वॉइस डे’ खासकर दुनिया भर में ओटोलरींगोलॉजिस्ट-हेड एंड नेक सर्जन और अन्य आवाज स्वास्थ्य पेशेवरों द्वारा मनाया जाता है. इस दिन को मनाये जाने की शुरुआत 16 अप्रैल वर्ष 1999 को ब्राजील में हुई थी. डॉक्टर नेडिओ स्टीफेन की अध्यक्षता में ब्राजील सोसाइटी ऑफ लारिंगोलॉजी और वॉइस ने इसकी शुरुआत की थी.

ये भी पढ़ें: बच्चों को ऊंची आवाज में सुनाएं कहानियां-कविताएं, उनका तनाव होगा कम – स्टडी

इसके बाद वर्ष 2002 में अमेरिकन एकेडमी ऑफ ओटोलरींगोलॉजिस्ट-हेड एंड नेक सर्जरी ने इसे ‘वर्ल्ड वॉइस डे’ यानी ‘विश्व आवाज दिवस’ के रूप में मनाने जाने का फैसला किया. तब से इस दिन को पूरे विश्व में मनाया जाता है.

‘वर्ल्ड वॉइस डे’ का महत्व
‘वर्ल्ड वॉइस डे’ मनाये जाने की शुरुआत लोगों को इस बात का अहसास दिलाने के लिए की गयी, कि उनकी आवाज ईश्वर का दिया एक नायाब तोहफा है. जिसकी इंसान को कद्र करनी चाहिए और इसका सम्मान करते हुए आवाज का महत्व समझना चाहिए.

ये भी पढ़ें: सिंगर बनना चाहते हैं और आवाज में नहीं है मिठास तो करें ये योगाभ्यास

आवाज की अहमियत को समझाने के लिए इस दिन विश्व के बहुत से देशों में कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं. जिसके दौरान ऐसे लोगों की कहानियों को दर्शाया जाता है, जिन्होनें किसी बीमारी या दुर्घटना की वजह से अपनी आवाज खो दी. जिससे लोग अपनी आवाज के महत्त्व को समझ सकें.

Tags: Health News, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.