क्या है सैचुरेटेड फैट? दिल के लिए कैसे है नुकसानदायक, फूड्स जिनमें होता है ये सबसे अधिक
स्वास्थ्य

क्या है सैचुरेटेड फैट? दिल के लिए कैसे है नुकसानदायक, फूड्स जिनमें होता है ये सबसे अधिक

Side Effects of Saturated Fats: अक्सर लोग फैट युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन के बारे में अनजान होते हैं और ऐसे में हेल्दी फैट की बजाय अनहेल्दी फैट्स का सेवन करते हैं. कुछ लोग फैटी फूड्स इसलिए नहीं खाते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि वह मोटे हो जाएंगे, लेकिन आप जान लें कि कुछ फैट भी शरीर के लिए जरूरी होता है. शरीर को एनर्जी फैट के जरिए ही प्राप्त होती है. फैट्स शरीर में जाकर कई तरह के कार्यों में मदद करता है. हालांकि, फैट्स का सेवन किसी एक्सपर्ट की सलाह पर ही करना चाहिए, क्योंकि एक गुड फैट होता है, तो दूसरा बैट फैट. अच्छा फैट अनसैचुरेटेड फैट होता है और खराब फैट सैचुरेटेड फैट. हेल्दी फैट्स शरीर के लिए बेहद जरूरी और फायदेमंद होते हैं. ऐसे में गुड फैट को डाइट में जरूर शामिल करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें: FAT से नहीं, उसके सोर्स से जुड़ा है हार्ट डिजीज का रिस्क – स्टडी

क्या है गुड और बैड फैट
हार्वर्ड डॉट ईडीयू में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, गुड फैट यानी अनसैचुरेटेड फैट. आपको ज्यादा गुड फैट का ही सेवन करना चाहिए. इसमें मोनोअनसैचुरेटेड और पॉलीअनसैचुरेटेड फैट्स होते हैं, जो कई तरह की गंभीर बीमारियों के होने के जोखिम को कम करते हैं. गुड फैट्स से भरपूर फूड होते हैं सब्जियों से बने तेल जैसे कनोला, सूरजमुखी, सोया और कॉर्न का तेल, बीज, मछली, नट्स आदि. वहीं, बैड फैट्स जिसे ट्रांस फैट्स भी कहते हैं, ये कई तरह की बीमारियों के होने का खतरा बढ़ा देते हैं. आप इसे कम मात्रा में भी खाएं, तो भी यह सेहत के लिए अनहेल्दी ही होता है. ट्रांस फैट्स से भरपूर फूड्स मुख्य रूप से प्रोसेस्ड फूड्स होते हैं, जो हाइड्रोजेनेटेड ऑयल होते हैं. सैचुरेटेड फैट, ट्रांस फैट की तरह अधिक नुकसानदायक नहीं होता है, जब इसे सीमित मात्रा में खाया जाए. लेकिन अनसैचुरेटेड फैट की तुलना में ये सेहत पर नेगेटिव असर ही डालता है.

इसे भी पढ़ें: मिल्क प्रोडक्ट्स में ज्यादा फैट होने से बच्चों की सेहत पर नहीं पड़ता फर्क – स्टडी

सेहत के लिए सैचुरेटेड फैट के नुकसान
सैचुरेटेड फैट का सेवन हमारे संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक होता है. खासकर, ये दिल के लिए अनहेल्दी फैट है. सैचुरेटेड फैट्स युक्त फूड्स के नियमित सेवन से आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा हाई हो सकती है. ये फैट आर्टरीज वॉल पर धीरे-धीरे जमा होने लगते हैं और ब्लॉकेज के कारण दिल तक ब्लड सर्कुलेशन बाधित होने लगता है. इस तरह से दिल अपना कार्य सही से नहीं कर पाता है, जिससे हार्ट अटैक, स्ट्रोक, कार्डियक अरेस्ट आने का जोखिम बढ़ जाता है. बेहतर है कि आप अनसैचुरेटेड फैट्स का सेवन करें.

सैचुरेटेड फैट से भरपूर फूड्स
कुछ ऐसे फूड्स होते हैं, जिनमें भारी मात्रा में सैचुरेटेड फैट्स होते हैं, जैसे रेड मीट, चीज, आइसक्रीम, बटर, नारियल का तेल, पाम या ताड़ का तेल आदि. जब आप रेड मीट और मक्खन जैसे खाद्य पदार्थों का सेवन कम करते हैं, तो उन्हें रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट्स की बजाय मछली, बीन्स, नट्स और हेल्दी तेलों के साथ बदलें. नीचे बताई गई चीजों में सैचुरेटेड फैट भरपूर होते हैं-

  • बटर, घी, नारियल तेल
  • केक, बिस्किट, पेस्ट्री
  • सॉसेजेज, बेकन, मीट के चर्बी वाले भाग
  • सलामी
  • चीज, मिल्कशेक
  • कोकोनट क्रीम, मेयोनीज
  • आइसक्रीम
  • चॉकलेट, चॉकलेट स्प्रेड्स
  • एनिमल फैट जैसे चिकन, डक

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.