क्या है लो कार्ब डाइट? वजन कम करने के साथ और क्या हैं इसके फायदे-नुकसान, फूड सोर्स, जानें यहां...
स्वास्थ्य

क्या है लो कार्ब डाइट? वजन कम करने के साथ और क्या हैं इसके फायदे-नुकसान, फूड सोर्स, जानें यहां…

Low Carb Diet and Benefits: वजन कम करने के लिए कई तरह के फूड्स का सेवन किया जाता है, उन्हीं में से एक है लो कार्ब्स फूड. इसे लो-कार्बोहाइड्रेट डाइट भी कहते हैं यानी वैसा आहार जिसमें कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate) की मात्रा काफी कम होती है. क्लिनिकल न्यूट्रिशनिस्ट अंशुल जयभारत कहती हैं, लो कार्ब्स ज्यादातर अनाज, स्टार्च वाली सब्जियों और फलों में पाया जाता है. साथ ही इसमें फैट और प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों पर अधिक जोर दिया जाता है. इसका बेहतरीन उदाहरण है कीटो डाइट (Keto Diet). वजन कम करने के लिए लोग कीटो डाइट प्लान फॉलो करते हैं, क्योंकि इसमें कार्ब्स की मात्रा बेहद कम होती है. कई तरह के लो-कार्ब डाइट होते हैं और सभी के अपने फायदे, लिमिटेशंस होती हैं. जानें, लो कार्ब डाइट का उद्देश्य, इसके फायदे, लो कार्ब्स फूड सोर्स.

लो कार्ब डाइट का उद्देश्य

मायोक्लिनिक की खबर के अनुसार, मुख्य रूप से लो कार्ब डाइट (Low carb diet for weight loss) को वजन कम करने के लिए फॉलो किया जाता है. कुछ लो कार्ब डाइट्स के वजन कम करने के साथ-साथ कई अन्य फायदे भी होते हैं. इससे टाइप 2 डायबिटीज, मेटाबॉलिक सिंड्रोम होने का जोखिम कम होता है. हालांकि, किसी भी तरह के वेट लॉस डाइट को फॉलो करने से पहले एक्सपर्ट की सलाह जरूर लेनी चाहिए, खासकर उन लोगों को जिन्हें डायबिटीज, हार्ट डिजीज या कोई अन्य शारीरिक समस्या है.

इसे भी पढ़ें: लो कार्ब डाइट है आपकी जरूरत तो आजमाएं भोजन के ये विकल्प

लो कार्ब डाइट में शामिल फूड्स

इस डाइट में कार्बोहाइड्रेट्स की मात्रा बेहद कम होती है. कार्बोहाइड्रेट को सिंपल नेचुरल (दूध में लैक्टोज, फलों में फ्रुक्टोज), सिंपल रिफाइंड (टेबल शुगर), कॉमप्लेक्स नेचुरल (साबुत अनाज या बीन्स) और कॉमप्लेक्स रिफाइंड (सफेद आटा) के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। कार्बोहाइड्रेट्स के फूड सोर्स इस प्रकार हैं-

  • अनाज
  • दूध
  • नट्स
  • सब्जियां
  • फल
  • बींस, लेंटिल्स, मटर
  • बीज

इसे भी पढ़ें : How to follow Keto Diet: कीटो डाइट फॉलो करने का सही तरीका जान लें वरना नहीं होगा कोई लाभ

लो कार्ब डाइट के फायदे-नुकसान

लो कार्ब डाइट या फूड्स के सेवन से वजन कम करने में मदद मिलती है. इससे मेटाबॉलिज्म बढ़ता है, टाइप 2 डायबिटीज होने की संभावना कम होती है. डाइट से अचानक कार्ब्स को कम कर देने से कुछ नुकसान भी हो सकते हैं जैसे कब्ज, मांसपेशियों में ऐंठन, सिरदर्द. अधिक मात्रा में कार्ब को डाइट से प्रतिबंधित करने से शरीर ऊर्जा के लिए केटोन्स (Ketones) में वसा को तोड़ने का कारण बन सकता है. इसे किटोसिस (Ketosis) कहते हैं. कीटोसिस से सांसों में दुर्गंध, सिरदर्द, थकान और कमजोरी जैसे दुष्प्रभाव हो सकते हैं. लॉन्ग टर्म के लिए कार्ब्स को डाइट से निकाल देने पर शरीर में विटामिन, मिनरल की कमी हो सकती है. यदि आप लो कार्ब डाइट फॉलो करते हैं, तो फैट्स और प्रोटीन पर अधिक ध्यान दें. फैट के नाम पर कुछ भी अनहेल्दी ना खाएं. सैचुरेटेड और ट्रांस फैट्स जैसे मीट, हाई फैट डेयरी प्रोडक्ट्स ना खाएं, इससे हार्ट डिजीज होने का जोखिम बढ़ सकता है.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.