क्या है टायरामाइन? ये खाने की किन चीजों में होता है, इसके फायदे-नुकसान भी जानें
स्वास्थ्य

क्या है टायरामाइन? ये खाने की किन चीजों में होता है, इसके फायदे-नुकसान भी जानें

What is Tyramine: टायरामाइन एक अमीनो एसिड है, जो बॉडी द्वारा बनाए गए एक गैर-जरूरी अमीनो एसिड टायरोसिन (Tyrosine) से प्राप्त होता है. ये ब्रेन में कई जरूरी केमिकल्स के प्रोडक्शन के लिए एक जरूरी कॉम्पॉनेंट (घटक) है, जबकि ये एक प्राकृतिक रूप से पाया जाने वाला अमीनो एसिड है, लेकिन कुछ खाने की आइटम्स में टायरामाइन पाया जाता है.

टायरामाइन से हेल्थ को होने वाले फायदे

-टायरामाइन डोपामाइन, नॉरपेनेफ्रिन और एपिनेफ्रिन हार्मोन्स के डिस्चार्ज में मदद करता है, जो हार्ट रेट और ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद करते है.

– टायरामाइन वजन घटाने में मदद करता है और इसलिए ये एथलीट और अपनी फिटनेस का खास ध्यान रखने वाले लोगों के बीच ये काफी पॉपुलर है.

– टायरामाइन इंसुलिन के लेवल को कंट्रोल में रखने में भी मदद करता है, जिससे मसल्स एट्रॉफी बढ़ जाती है. ये एथलीटों को अपनी मसल्स को फिट और दुबला रखने में मदद करता है.

यह भी पढ़ें-
कैसे करें कार्डियोवैस्कुलर एक्सरसाइज बर्पीज? जानें क्या होते हैं इसके फायदे

खाने की किन चीजों में होता है टायरामाइन 
टायरामाइन के इन फायदों पर अभी और स्टडी की जरूरत है, वहीं इसके कुछ साइड इफैक्ट्स भी हैं, और किसी भी टाइम टायरामाइन के लिए जाने की मात्रा हमेशा निगरानी करनी चाहिए. एजिंग फूड और म्च्योर फूड टायरामाइन से भरपूर होते हैं. वहीं पैकेज्ड मीट, सॉसेज, मछली, सलामी, पोल्ट्री और मोर्टडेला भी टाइरामाइन से भरपूर होते हैं. वेजिटेरियन फूड में सोया सॉस, सोयाबीन पेस्ट और फ्रेमेंटेड टोफू से भी आप टायरामाइन ले सकते हैं.

टायरामाइन के साइड इफैक्ट्स
अगर आप टाइरामाइन के फायदे लेना चाहते हैं, इनमें से खाने का विकल्प चुन सकते हैं. लेकिन जो लोग या तो अमीनो एसिड के प्रति इनटोलरेंट हैं या एंटी-डिप्रेसेंट दवाएं लेते हैं, उन्हें टायरामाइन वाली चीजों और टायरामाइन सप्लीमेंट्स से दूर रहना चाहिए, इससे दिल की धड़कन बढ़ जाती है, माइग्रेन, उल्टी और मतली भी होती है.

यह भी पढ़ें-
इंसुलिन का इंजेक्शन दिए बिना भी हो सकेगा डायबिटीज का इलाज, IIT मंडी के रिसर्चर्स का दावा

टायरामाइन का ऑप्शन क्या है?
टायरामाइन से बचने के लिए ऐसे लोगों को अपने डाइट प्लान में बदलाव करना होगा, उन्हें ऐसे फूड्स को इसमें शामिल करना होगा जो न्यूट्रीएंट्स से भरपूर हों और जिसमें टायरामइन जैसे ही गुण हों. उदाहरण के लिए, प्रोटीन रिच फूड जैसे फलियां, नट्स, डेयरी प्रोडक्ट्स और अन्य जैसे ब्रेड, पके और सूखे अनाज.

इन्हें अपनी डाइट में शामिल करने के बाद आपक बहुत ज्यादा टाइरामाइन की जरूरत नहीं होगी, अगर आप फिर भी लेते हैं तो ये आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है. वहीं वजन घटाने और दुबली मसल्स के लिए हाई प्रोटीन डाइट और ट्रेन्ड कोच के साथ रेगुलर एक्सरसाइज से संभव है, जो आपको अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद कर सकता है.

Tags: Health, Health News, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.