side effects of eating raw rice be careful pur– News18 Hindi
स्वास्थ्य

क्या चावल खाने के बाद आपको भी नींद आती है, जानिए क्या है कारण / Do you feel sleepy after eating rice Know what is the reason nav– News18 Hindi

Rice Effects : चावल (Rice) एनर्जी का एक पावरहाउस है और दुनिया भर में कई लोगों के लिए ये एक मुख्य भोजन है जिसे ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर में खाया जाता है. हालांकि, कुछ लोग चावल खाने के बाद उनींदापन (Drowsiness) महसूस करते हैं, मतलब उन्हें सुस्ती आती या नींद आने जैसा अनुभव होता है. आखिर ऐसा क्यों होता है?

इंडियन एक्सप्रेस डॉटकॉम की खबर के मुताबिक न्यूट्रिशनिस्ट (Nutritionist)पूजा मखीजा ने एक इंस्टाग्राम वीडियो में बताया कि जब कार्बोहाइड्रेट या कार्ब्स (जिन पदार्थों में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा अधिक होती है.) को पचाने की बात आती है तो शरीर की पाचन प्रक्रिया कैसे काम करती है.

क्यों आती है सुस्ती?
उनके अनुसार, “हमारे शरीर पर किसी भी कार्बोहाइड्रेट का एक जैसा इफेक्ट होता है, क्योंकि कार्ब्स ग्लूकोज में कन्वर्ट हो जाते हैं और ग्लूकोज को इंसुलिन की आवश्यकता होती है. अब जैसे-जैसे इंसुलिन बढ़ता है, यह जरूरी फैटी एसिड – ट्रिप्टोफैन (Tryptophan) के लिए संकेत देता है, जो मेलाटोनिन और सेरोटोनिन को बढ़ाता है, ये शांत करने वाले हार्मोन हैं और यही उनींदापन या सुस्ती का कारण बनते हैं”

पूजा मखीजा के अनुसार, इस थ्योरी को हम इस तरह से समझ सकते है कि ये हमारी जीवनशैली को प्रभावित करने वाली आदतों के लंबे समय तक प्रयोग में मदद करती है. तो इसके लिए आपको क्या करना है ये समझिए. उन्होंने चावल खाने के बाद आने वाली नींद को मात देने के दो आसान तरीके बताए हैं.

सुस्ती भगाने के लिए क्या करें?
– अपनी प्लेट में खाने की मात्रा बहुत ज्यादा नहीं होनी चाहिए. मतलब ज्यादा  खाना भी सुस्ती और नींद का कारण बनता है. अगर ज्यादा खाएंगे तो ज्यादा मेहनत भी करनी होगी और ज्यादा थकान का अर्थ है ज्यादा सुस्ती.

– दूसरा हम ये कर सकते हैं कि प्लेट में 50 प्रतिशत सब्जियां, 25 प्रतिशत प्रोटीन, 25 प्रतिशत कार्ब्स होने चाहिए, क्योंकि प्रोटीन भी ट्रिप्टोफैन में योगदान देता है. इसलिए इसका संतुलित रहना भी जरूरी है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *