कोरोना काल में अगर जाना पड़े अस्पताल, तो ऐसे रहें सुरक्षित
स्वास्थ्य

कोरोना काल में अगर जाना पड़े अस्पताल, तो ऐसे रहें सुरक्षित | health – News in Hindi

कोविड-19 (Covid-19) की वजह हम सबने जीने के लिए कई नए नियम सीखे हैं. हमने सीखा है कि घर से बाहर जाना जरूरी हो तो कैसी तैयारी करें और घर पर किस तरह से सुरक्षा उपाय अपनाएं. इस दौर में ज्यादातर डॉक्टर टेली-कंसल्टेशन (Tele-Consultation) को बढ़ावा दे रहे हैं. इसके बावजूद कुछ स्वास्थ्य स्थितियां (Health Conditions) हो सकती हैं, जिनकी वजह से डॉक्टर के क्लीनिक या अस्पताल (Hospital) जाना मजबूरी बन जाए. अगर ऐसा है तो फिर आपको कुछ जरूरी सुरक्षा उपाय अपनाने होंगे, ताकि आप अस्पताल से कोविड-19 बीमारी लेकर घर ना जाएं.

जैसा कि पहले दिन से ही कहा जा रहा है कि इस बीमारी को दूर रखने का मूल मंत्र सोशल डिस्टेंसिंग में है. अस्पताल या क्लीनिक जाने पर भी आपको सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन करना होगा, ताकि आप और अन्य लोग सुरक्षित रह सकें. कोविड के चलते सरकारों द्वारा जारी किए गए इन दिशा-निर्देशों का पालन करने के साथ ही अपनी स्वास्थ्य स्थितियों को भी नजरअंदाज ना करें. अगर डॉक्टर के पास जाना जरूरी हो तो जरूर जाएं, अन्यथा आपकी स्थिति बिगड़ सकती है. ऐसे में इन सामान्य सुरक्षा नियमों को अपनाएं-

डॉक्टर के पास जाने से पहले अपॉइंटमेंट ले लें, क्लीनिक या अस्पताल जाकर लाइन में लगकर अपनी बारी का इंतजार करना आपके स्वास्थ्य के लिए अच्छा कदम नहीं होगा. अपॉइंटमेंट लेने के लिए फोन या इंटरनेट का इस्तेमाल किया जा सकता है और निर्धारित समय के अनुसार ही क्लीनिक या अस्पताल में पहुंचें.घर से बाहर जाते समय मास्क पहनना ना भूलें और अपने साथ अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर लेकर जाएं. हो सके तो ग्लव्ज पहनकर जाएं और अपनी पीने के पानी की बोतल साथ लेकर जाएं.

ये भी पढ़ें – कोरोना वायरस से पड़ रहा पुरुषों के सेक्स हॉर्मोन्स पर असर, जानिए कैसे

घर से बाहर जाते समय मास्क पहनना ना भूलें और अपने साथ अल्कोहल आधारित सैनिटाइजर लेकर जाएं. हो सके तो ग्लव्ज पहनकर जाएं और अपनी पीने के पानी की बोतल साथ लेकर जाएं.

मरीज के साथ एक से ज्यादा स्वस्थ व्यक्ति क्लीनिक या अस्पताल ना जाएं. खासतौर पर जिन लोगों को खांसी-जुकाम जैसे लक्षण हों, उन्हें घर पर ही रहना चाहिए. अगर आप गर्भवती हैं, बुजुर्ग हैं या बच्चे हैं तो बहुत जरूरी होने पर ही अस्पताल जाएं.

अगर अपने वाहन की बजाय सार्वजनिक वाहन से जा रहे हैं तो बेहतर होगा कि आप कैशलेश भुगतान करें, ताकि लेन-देन की वजह से संक्रमण का खतरा ना हो.

क्लीनिक या अस्पताल पहुंचने पर किसी भी अन्य व्यक्ति से कम से कम 2 फीट की दूरी बनाकर रखें. डॉक्टर से मिलने से पहले और बाद में साबुन, पानी से अच्छी तरह से हाथ धोएं. अस्पताल के सुरक्षा मानकों का पूरी तरह से पालन करें.

अगर आपको बुखार है तो किसी ओपीडी में जाने की बजाय फीवर क्लीनिक में जाएं, जो लगभग हर अस्पताल में मौजूद हैं. ऐसा करने से आप खुद और अन्य को कोविड-19 के संक्रमण से बचा सकते हैं.

डॉक्टर से मिलकर अपनी अगली अपॉइंटमेंट के बारे में भी बात कर लें. संभव हो तो फॉलोअप के लिए आपको क्लीनिक या अस्पताल ना जाना पड़े और टेली-कंसल्टेशन से डॉक्टर की सलाह लें.

कोशिश करें कि अस्पताल या किसी भी सार्वजनिक स्थल पर टॉयलेट का इस्तेमाल ना करें. घर में भी फ्लश करने से पहले टॉयलेट बाउल का लिड बंद कर दें.

ये भी पढ़ें – कोरोना में क्‍यों की जाती है कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग, जानिए क्‍या है ये

वॉल्व वाले मास्क ना पहनें, इनकी जगह घर में बने या मेडिकल स्टोर से खरीद कर तीन प्लाई वाले मास्क का उपयोग करें.

घर पहुंचकर दरवाजे के बाहर ही अपने जूते उतार दें. अगर आपने दरवाजे का हैंडल या जो भी हिस्सा छुआ है उसे कीटाणु रहित करें. अपने डिस्पोजेबल मास्क को सुरक्षित तरीके से डिस्पोज कर दें. कपड़े के मास्क और अन्य कपड़ों को तुरंत बाथरूम में उतारकर उन्हें गर्म पानी में डाल दें और उसमें डिटरजेंट डालें. अब स्वयं भी साबुन और गर्म पानी के साथ अच्छी तरह से स्नान करें.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, कोविड-19 क्या है, इसके चरण, कारण, लक्षण, बचाव, निदान, उपचार और दवा पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *