कीटो डाइट फॉलो करने का सही तरीका जान लें वरना नहीं होगा कोई लाभ – News18 हिंदी
स्वास्थ्य

कीटो डाइट फॉलो करने का सही तरीका जान लें वरना नहीं होगा कोई लाभ – News18 हिंदी

How to follow Keto Diet plan: कीटो डाइट (Keto Diet) को लोग वजन कम करने के लिए फॉलो करने लगे हैं. दरअसल, कीटो डाइट एक लो कार्ब डाइट प्लान है. इसमें फैट सबसे अधिक, प्रोटीन मॉडरेट मात्रा में और कर्बोहाइड्रेट्स बेहद ही कम शामिल की जाती है. क्लिनिकल न्यूट्रिशनिस्ट अंशुल जयभारत कहती हैं कि कीटो डाइट मेडिकल कारणों से दिया जाता है, जो अब वेट लॉस के लिए भी फॉलो किया जाने लगा है. मुख्य रूप से एपिलेप्सी या मिर्गी से ग्रस्त बच्चों को कीटो डाइट दी जाती है. इसमें फैट को एनर्जी का मुख्य सोर्स बनाया जाता है. इस तरह इसमें फैट सोर्सेज की मात्रा सबसे अधिक होती है. उसके बाद मॉडरेट अमाउंट में प्रोटीन और फिर सबसे कम कार्बोहाइड्रेट्स होता है. कुछ लोग बिना एक्सपर्ट की गाइडलाइंस के यहां-वहां से पढ़कर इस डाइट को फॉलो करना शुरू कर देते हैं. इससे वजन तो कम होता नहीं, शरीर को कई नुकसान होने लगते हैं. ऐसे में कीटो डाइट प्लान फॉलो करने का सही तरीका क्या है, इसे जरूर जान लेना चाहिए.

कितने दिनों के लिए फॉलो करें कीटो डाइट प्लान

न्यूट्रिशनिस्ट अंशुल जयभारत कहती हैं, कीटो या कीटोजेनिक डाइट को वजन कम करने के लिए फॉलो करना चाहते हैं, तो किसी डाइटिशियन, न्यूट्रिशनिस्ट या एक्सपर्ट की सलाह लेकर ही करें, क्योंकि लॉन्ग टर्म में वेट लॉस करने के लिए नुकसानदायक हो सकता है. यह एक हाई फैट डाइट है, जिसमें फैट की मात्रा 80%, मॉडरेट प्रोटीन 10% और कार्बोहाइड्रेट बहुत कम 5 से 10 प्रतिशत शामिल होता है. कुछ लोग दो सप्ताह से लेकर दो महीने तक करते हैं, लेकिन इसे सिर्फ दो सप्ताह से अधिक फॉलो नहीं करना चाहिए. आप पहली बार इस डाइट को फॉलो कर रहे हैं, तो 2 सप्ताह ही इसे फॉलों करके देखें नहीं तो कई तरह की समस्याएं होने लगती हैं.

यह भी पढ़ें: Side Effects of Keto Diet: वेट लॉस के लिए कर रहे हैं कीटो डाइट फॉलो, तो जान लें इसके नुकसान भी

कीटो डाइट प्लान में क्या खाएं, क्या न खाएं

इंडियन वेजिटेरियन डाइट में सोर्सेज कम होते हैं. ऐसे में टिपिकल कीटो डाइट को फॉलो करना थोड़ा मुश्किल होता है. ऐसे में यहां डेयरी प्रोडक्ट्स जैसे पनीर, नट्स आदि भी शामिल किया जाता है. कीटो डाइट में मुख्यरूप से मांस-मछली और लो कार्ब सब्जियों को शामिल किया जाता है. सी फूड, चिकन, मीट, मछली, अंडा, केल, पत्तागोभी, फूलगोभी, ब्रोकोली, शिमला मिर्च, टमाटर आदि खा सकते हैं. उन सब्जियों को खाएं, जिनमें स्टार्च, कैलोरी, कार्ब्स नहीं होता. साथ ही कुछ नट्स, सीड्स जिसमें कार्ब कम और फैट अधिक होते हैं का सेवन कर सकते हैं. इसके लिए काजू, बादाम, पिस्ता, सूरजमुखी के बीज, चिया सीड्स आदि कीटो डाइट प्लान में शामिल कर सकते हैं. कीटो डाइट प्लान में अंडा जरूर शामिल करें, क्योंकि एक अंडे में कार्बोहाइड्रेट काफी कम और प्रोटीन मॉडरेट अमाउंट में होता है. सीफूड में आप श्रिंप, केकड़ा, सैल्मन मछली आदि में कार्ब्स नहीं होते हैं.

इसे भी पढ़ें: तेजी से वजन घटाना हो तो डाइट में शामिल करें ये अनाज

किस तरह कीटो डाइट प्लान करें फॉलो

दो सप्ताह भी कीटो डाइट प्लान कोई फॉलो करना चाहता है, तो भी किसी एक्सपर्ट की देखरेख में ही करना चाहिए. हर किसी का शरीर अलग होता है. सब पर अलग-अलग तरह से यह डाइट प्लान असर कर सकता है, ऐसे में ऑनलाइन उपलब्ध जानकारियों को फॉलो न करें. जब एक इंडियन कीटो डाइट प्लान को डिजाइन किया जाता है, तो इसमें कुकिंग टाइम और फूड के शेल्फ लाइफ पर अधिक फोकस करना होता है.

एक सप्ताह का कीटो डाइट प्लान चार्ट

शुरुआत में नाश्ते में आप पनीर, नट्स, एक फल खा सकते हैं, क्योंकि अचानक से कार्बोहाइड्रेट कम करना होता है. लंच टाइम में एगिटेरियन अंडे और एवोकाडो से तैयार सलाद खा सकते हैं. एवोकाडो में फैट काफी होता है. तिल, थोड़ी बहुत सब्जियों को शामिल कर सकते हैं. डिनर में टोफू खा सकते हैं. नारियल के दूध में टोफू की करी बनाकर सेवन कर सकते हैं. इसमें आप लो कार्ब्स वाली कुछ और चीजों को प्रत्येक दिन शामिल कर सकते हैं, ताकि वेरायटी मिले. आप चाहें तो नाश्ते में उबला हुआ अंडा, लंच में शॉलो फ्राइड कॉटेज चीज, डिनर में सोया सॉस में बना चिकन ब्रेस्ट, ऑमलेट, चिकन सीख कबाब, उबला अंडा आदि शामिल कर सकते हैं. बेहतर है कि डाइटिशियन से कीटो डाइट प्लान चार्ट बनवा लें.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.