कीटो डाइट प्लान में शामिल करें ये सब्जियां, जानें उनके फायदों के बारे में यहां...
स्वास्थ्य

कीटो डाइट प्लान में शामिल करें ये सब्जियां, जानें उनके फायदों के बारे में यहां…

Indian Keto Foods and Vegetables: कीटो डाइट (Keto Diet) एक लो कार्ब (Low Carb) से भरपूर डाइट प्लान है. इसमें फैट सबसे अधिक और प्रोटीन की मात्रा मॉडरेट अमाउंट में होती है. वजन कम करने वाले कीटो डाइट को अपनाते हैं. यदि सही तरीके से कीटो डाइट प्लान को फॉलो किया जाए, तो ही फायदा हो सकता है. हालांकि, इसके कुछ फायदे हैं, तो कुछ नुकसान भी होते हैं. शुरुआत में कीटो डाइट मिर्गी (Epilepsy) जैसी समस्या के लक्षणों को कम करने के लिए इस्तेमाल किया जाता था, लेकिन आज यह वेट लॉस (Keto Diet for weight loss) के लिए अधिक फॉलो किया जाने लगा है.

क्या है कीटो

कीटोफाई की खबर के अनुसार, कीटो को केटोजेनिक डाइट भी कहते हैं, जिसमें फैट हाई, प्रोटीन मीडियम और कार्बोहाइड्रेट लो होता है. मुख्य रूप से कीटो डाइट इस सिद्धांत के इर्द-गिर्द काम करता है- शरीर को प्रोटीन और फैट से अधिक कैलोरी मिलती है और कार्बोहाइड्रेट से कम. जब कोई कार्बोहाइड्रेट का सेवन कम करता है, तो शरीर में फ्यूल या रक्त शर्करा की कमी हो जाती है. यह आमतौर पर कार्ब सेवन को कम करने के तीन से चार दिनों के बाद होता है. जब शरीर को यह आभास होता है कि उसके पास पर्याप्त त्वरित ईंधन या फ्यूल नहीं है, तो वह ऊर्जा के लिए प्रोटीन और फैट को तोड़ना शुरू कर देता है, जिससे वजन कम (Weight loss) होता है. कार्ब्स (Carbs) में कमी होने के कारण शरीर मेटाबॉलिक स्टेट में पहुंच जाती है, जिसे कीटोसिस (Ketosis) के रूप में जाना जाता है.
कीटो डाइट में शामिल फूड्स शरीर को केटोजेनिक अवस्था में पहुंचाती हैं, जिससे वजन घटाने में मदद मिलती है. इसमें लिवर फैट को केटोन्स (Ketones) में तोड़ना शुरू कर देता है, जो मूल रूप से ऊर्जा की आपूर्ति के लिए वसा को एसिड में तोड़ता है.

इसे भी पढ़ें: क्या है कीटो डाइट, कैसे किडनी पर होता है इसका असर

भारतीय कीटो डाइट फूड्स में शामिल होने वाली चीजें

इंडियन कीटो डाइट (Indian keto diet) में कई तरह की चीजें शामिल होती हैं, जो टिपिकल कीटो डाइट से बहुत अलग है. यहां हर्ब्स, मसालों का इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि इनमें कार्ब्स काफी कम होते हैं. मांस-मछली में चिकन, रेड मीट, मछली (टूना, सैल्मन), सॉसेजेज खा सकते हैं. नॉन-वेज नहीं खाते तो शाकाहारी लोग टोफू या पनीर का सेवन कर सकते हैं. साथ ही डेयरी में बटर, चीज, क्रीम, नट्स, कई तरह की बीज (Seeds) जो प्राकृतिक फैट्स से भरपूर होते हैं का सेवन कर सकते हैं. बादाम, अखरोट, फ्लैक्स सीड्स, चिया सीड्स भी इंडियन कीटो डाइट प्लान में शामिल हो सकते हैं. जहां तक फलों का सवाल है, तो अधिकतर फल कार्ब्स में हाई होते हैं, ऐसे में आपके बस दो-तीन विकल्प हैं जैसे तरबूज, बेरीज, नींबू आदि.

इसे भी पढ़ें: क्या है लो कार्ब डाइट? वजन कम करने के साथ और क्या हैं इसके फायदे-नुकसान, फूड सोर्स, जानें यहां…

कीटो डाइट प्लान में शामिल करें ये सब्जियां

कीटो डाइट में सब्जियों में केल, साग, पत्तागोभी, टमाटर, शिमला मिर्च, जुकीनी, फूलगोभी का इस्तेमाल आप कीटो डाइट मील बनाने में कर सकते हैं. इनके साथ ही धनिया, पुदीना, लौकी, भिंडी, करेला, ब्रोकोली, बैंगन भी कीटो डाइट मील प्लान में बतौर हेल्दी ऑप्शन के रूप में शामिल कर सकते हैं. ये सभी सब्जियां किसी ना किसी तरह से सेहत के लिए फायदेमंद ही होती हैं. पालक के सेवन से शरीर में आयरन की कमी नहीं होगी. टमाटर खाने से वजन होता है कम, इम्यूनिटी बूस्ट होती है.

शिमला मिर्च खाने से मेटाबॉलिज्म बूस्ट होता है, जिससे वजन घटाने में मदद मिलती है. साथ ही इम्यूनिटी भी बूस्ट करती है. फूलगोभी खाने से वजन कम करे, पाचन तंत्र मजबूत बनाए, हार्ट, हड्डियों को रखे हेल्दी, मजबूत. कोलेस्ट्रॉल रखे कंट्रोल. करेला भी मोटापा घटाए, रोग प्रतिरोधक क्षमता करे मजूबत, खून करे साफ आदि.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.