News18 हिंदी - Hindi News
स्वास्थ्य

कार्पल टनल सिंड्रोम का संकेत है हाथों में झुनझुनी, एक्सरसाइज के साथ अपनाएं ये रेमेडीज

हाइलाइट्स

समस्या होने पर काम करने के दौरान ब्रेक लेते रहे.
एक्सरसाइज और योग पर विशेष ध्यान देना चाहिए.

Carpal Tunnel Syndrome: कार्पल टनल सिंड्रोम को सीटीएस के नाम से भी जानते हैं. ये हाथों की एक गंभीर बीमारी है जिसमें हाथों में तेज दर्द और नसों में दबाव या अकड़न महसूस हो सकती है. कई बार कुछ वजन उठाने या कोई भारी काम करने कि वजह से कलाई या हाथ में दर्द हाे जाता है जो एक दो दिन में खुद ही आसानी से ठीक भी हो जाता है. लेकिन अगर लंबे समय से हाथ में तेज दर्द और झुनझुनी होती है तो उसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. सीटीएस बढ़ती उम्र, हार्मोन्स, बढ़ा हुआ वजन और हाथों के मसल्स को आराम ना मिलने के कारण हो सकता है. ये बीमारी पुरुषों से ज्यादा महिलाओं में पाई जाती है. डॉक्टर्स सीटीएस में दवाइयों के साथ एक्सरसाइज करने पर जोर देते हैं ताकि हाथों की मांसपेशियों को मजबूती मिल सकें.

सीटीएस में रिलीफ देंगी ये रेमेडीज :
-काम करते समय ब्रेक लें
हेल्थ लाइन के अनुसार अगर आप हाथों से कोई भी काम कर रहे हैं चाहे वो टाइपिंग, गिटार बजाना हो या लिखना हो आपको थोड़े-थोड़े के रेस्ट करना चाहिए. उसके लिए 15 मिनट का अलार्म सेट कर सकते हैं. काम के दौरान हाथों को फैलाकर उंगलियों को हिलाएं ताकि उनमें ब्लड सर्कुलेशन हो सके.

-कलाई में स्प्लिंट पहन कर रखें
कलाई में स्प्लिंट यानी पट्टी पहनने से दर्द में कुछ आराम मिल सकता है. सीटीएस के लक्षण अधिकतर रात में तकलीफ दे सकते हैं इसीलिए शाम को और रात में सोते हुए पट्टी बांध सकते हैं.

-गरम सिकाई करें
हाथों में गर्म सिकाई करने से दर्द में आराम मिलता है और जकड़न में भी राहत मिल सकती है. सीटीएस में हर रोज भी गर्म पानी या गरम पट्टी से सिकाई कर सकते हैं.

-एक्सरसाइज
सीटीएस से रिलीफ पाने के लिए एक्सरसाइज और योग पर विशेष ध्यान देना चाहिए. काम करते समय हाथों की कलाई को अपवर्ड और डाउनवर्ड पोजीशन और सर्कुलर मोशन में घुमाएं.

इसे भी पढ़ें: मोबाइल की नीली रोशनी उम्र से पहले बना रही है बूढ़ा, जानें इससे बचने का उपाय

इसे भी पढ़ें: बाल अधिक झड़ने की वजह कहीं विटामिन ई की कमी तो नहीं? इसकी पूर्ति करेंगे ये फूड्स

Tags: Health, Lifestyle, Tips and Tricks

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.