Home
स्वास्थ्य

कई मामलों में तरबूज फायदे की जगह करता है नुकसान, जानें कैसे

Side Effects of Watermelon: शायद ही कोई ऐसा हो जिसको तरबूज (Watermelon) खाना पसंद न हो. कोई स्वाद के लिए तो कोई सेहत से लिए इसका सेवन करता ज़रूर है. इसके लगभग 92 प्रतिशत हिस्से में पानी होता है और इसमें विटामिन-बी6, विटामिन-सी, विटामिन-ए, पोटैशियम और लाइकोपीन जैसे कई और पोषक तत्व (Nutrients) होते हैं. जिसकी वजह से शरीर को इसके कई सारे फायदे मिलते हैं और ये आप जानते भी होंगे. लेकिन क्या आप जानते हैं कि इतने सारे पोषक तत्वों से भरपूर होने के बावजूद कई मामलों में तरबूज के ज्यादा सेवन से शरीर को कई तरह के नुकसान (Side effects) भी हो सकते हैं ? आइये आज आपको तरबूज से होने वाले के नुकसान के बारे में बताते हैं.

ग्लूकोज लेवल पर असर

तरबूज़ का सेवन उन लोगों को सोच-समझ कर करना चाहिए जो डायबिटीज की दिक्कत से गुज़र रहे हैं. दरअसल तरबूज़ का ज्यादा सेवन करने से ऐसे लोगों के शुगर लेवल पर असर पड़ सकता है. दरअसल इसमें ग्लाइसेमिक काफी ज्यादा मात्रा में होता है. इसलिए इसे खाने से पहले डॉक्टर से सम्पर्क ज़रूर करें.

ये भी पढ़ें: व्हीट ग्रास जूस से दूर होगी सूजन, हाजमा होगा दुरुस्‍त, जान लें इसके अन्‍य फायदे

पेट फूलने और डायरिया की दिक्कत

वैसे तो तरबूज़ डायट्री फाइबर और पानी का बेहतर सोर्स माना जाता है. लेकिन इसके बावजूद इसका ज्यादा मात्रा करने से पेट फूलने या डायरिया की दिक्कत हो सकती है. दरअसल तरबूज में सॉर्बिटोल नाम का शुगर कंपाउंड और लाइकोपीन नाम का कंटेंट पाया जाता है जो इसकी वजह बन सकता है.

लिवर में सूजन की दिक्कत

उन लोगों को तरबूज के ज्यादा सेवन से लिवर में सूजन की दिक्कत हो सकती है. जो लगातार एल्कोहल का सेवन करते हैं. दरअसल तरबूज में लाइकोपीन पाया जाता है जो हाई लेवल एल्कोहल के साथ मिलकर दिक्कत की वजह बन सकता है.

ये भी पढ़ें: आपके ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में प्याज है मददगार, जानें कैसे

ओवर हाइड्रेशन

तरबूज के ज्यादा सेवन से कई मामलों में ओवर हाइड्रेशन की दिक्कत भी हो सकती है. दरअसल  तरबूज में 92 प्रतिशत पानी होता है जिसकी वजह से ये दिक्कत हो सकती है. ओवर हाइड्रेशन यानी वाटर इंटॉक्सीकेशन ऐसी स्तिथि को कहा जाता है जिसमें शरीर में पानी की मात्रा जरूरत से ज्यादा हो जाती है. जिसकी वजह से शरीर में सोडियम का लेवल कम हो जाता है और जिसके चलते पैरों में सूजन, थकावट और किडनी की दिक्कत होने का खतरा होता है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *