ऑनलाइन क्लास से बच्चों की गर्दन और पीठ में बढ़ रहा है दर्द, एक्सपर्ट्स ने बताया बचाव का तरीका
स्वास्थ्य

ऑनलाइन क्लास से बच्चों की गर्दन और पीठ में बढ़ रहा है दर्द, एक्सपर्ट्स ने बताया बचाव का तरीका

Neck and Back lodged Due to Online Class: कोरोना काल में स्कूल बंद होने के बाद ऑनलाइन क्लासेस ने बच्चों में कई परेशानियों को बढ़ा दिया. डॉक्टरों का कहना है कि गलत मुद्रा यानी गलत पोस्चर (Posture) में बैठने के कारण बच्चों में गर्दन और पीठ में तेज दर्द से जुड़ी समस्याएं बढ़ गई हैं. बच्चों को हो रही दिक्कत से जुड़े जो मामले अस्पताल में सामने आ रहे हैं, उनमें से 50% दिक्कतें ऑनलाइन क्लासेस से बढ़ी हैं. दैनिक भास्कर अखबार में छपी न्यूज रिपोर्ट में ऑर्थोपेडिक और रोबोटिक जॉइंट रिप्लेसमेंट सर्जन (Orthopedic and Robotic Joint Replacement Surgeon) और जालंधर के एनएचएस अस्पताल में निदेशक शुभांग अग्रवाल ने बताया है कि, ‘स्क्रीन के सामने डटे रहने के दौरान गलत पोस्चर में बैठने और इस दौरान कम होती फिजिकल एक्टिविटी ने बच्चों को मानसिक रूप से अस्वस्थ बना दिया है, साथ ही ये भी देखने में आया है कि ज्यादातर बच्चों का वजन बढ़ा है, सहनशक्ति कम हुई है. वे चिंता के शिकार हैं और ध्यान भटकने की परेशानियों से जूझ रहे हैं.’

दिल्ली के इंडियन स्पाइनल इंजरीज सेंटर में पीडियाट्रिक ऑर्थोपेडिक कंसल्टेंट (Pediatric Orthopedic Consultant) डॉ सुरभित रस्तोगी के अनुसार, बच्चे गर्दन में अकड़न और पीठ दर्द से जूझ रहे हैं. इसकी एक बड़ी वजह ये भी है कि वो इस पूरे समय में कमरों में कैद रहे हैं, धूप में उनका निकलना बंद हो गया है. जो लोग ज्यादा समय स्क्रीन पर बितात हैं उन्हें एहतियात के तौर पर कुछ उपाय जरूर अपनाने चाहिए. जैसे कैल्शियम युक्त डाइट, धूप लेना, हर आधे घंटे मं ब्रेक लेना. इसके अलावा बच्चों को रोजना इंडोर या आउटडोर एक्टिविटी में हिस्सा लेना होगा, स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज और उचित बैक सपोर्ट वाली चेयर पर ही बैठें.’

यह भी पढ़ें-
Parenting Tips: बचपन में ही सिखा दें बच्‍चों को ये 6 बातें, लाइफ टाइम उनके आएगा काम

ऑनलाइन क्लास में हो स्ट्रेचिंग एक्टिविटी 
डॉ रस्तोगी के अनुसार, जो टीचर बच्चों की ऑनलाइन क्लास ले रहे हैं, उन्हें कोशिश करनी चाहिए कि वो बच्चों को 5 मिनट मजेदार स्ट्रेचिंग एक्टिविटी जरूर करवाएं. 10 मिनट बैठने के बाद बच्चों को एक बार इधर-उधर खड़े होकर स्ट्रेच कराएं. इससे बच्चे हेल्दी होंगे.

यह भी पढ़ें-
Parenting Tips: बच्‍चे ने चलना शुरू कर दिया है तो हर वक्‍त इन 6 बातों का रखें ख्‍याल, नहीं होगी परेशानी

दर्द को हल्के में ना लें
आगरा के उजाला सिग्नस रेनबो अस्पताल के आर्थोपेडिक सर्जन डॉ विशाल गुप्ता का कहना है कि, ‘‘जब बच्चे पीठ दर्द की शिकायत करते हैं, तो कई बार कोई गंभीर कारण होता है, चाहे वह चोट, संक्रमण या ट्यूमर के कारण हो. उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाना चाहिए.’

Tags: Health News, Lifestyle, Parenting tips

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.