एल्बिडो प्रभाव: धूल कणों से पिघल रही हिमालय की बर्फ, जानें क्यों है ये खतरे का संकेत
स्वास्थ्य

एल्बिडो प्रभाव: धूल कणों से पिघल रही हिमालय की बर्फ, जानें क्यों है ये खतरे का संकेत | health – News in Hindi

ग्लेशियर पिघलकर नदियों में जाकर गिर रहे हैं जो कि बर्फ पिघलने की प्रक्रियाओं में से एक हैं.

यह पता चला है कि अफ्रीका (Africa) और एशिया (Asia) के कुछ हिस्सों में सैकड़ों मील की दूरी पर उड़ने वाली धूल (Dust) हिमालयी क्षेत्रों में बर्फ के चक्र पर व्यापक प्रभाव छोड़ रही है. जबकि तेजी से पिघल रही हिमालयी बर्फ (Himalayan Snow) एक चिंता का विषय है.

हिमालय (Himalaya) में तेजी से पिघल रही बर्फ (Snow) को लेकर दो शोधकर्ताओं ने बड़ी चिंता जताई है. उन्होंने एशिया (Asia) और अफ्रीका (Africa) के देशों में बढ़ते प्रदूषण (Pollution) और धूल कणों (Dust) को बर्फ के पिघलने (Snow Melting) का बड़ा कारण माना है. शोधकर्ताओं ने इस ओर प्रभावी कदम उठाने का भी आग्रह किया है. उनके शोध के मुताबिक, एल्डिबो प्रभाव (Albedo Effect) से हिमालयी पर्यावरण पर बुरा असर पड़ रहा है. अमेरिका के वायुमंडलीय वैज्ञानिक युन क्वॉइन (Yun Qian) और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (मद्रास) के वैज्ञानिक चंदन सारंगी (Chandan Sarangi) के सह-अध्ययन के मुताबिक, यह पता चला है कि अफ्रीका और एशिया के कुछ हिस्सों में सैकड़ों मील की दूरी पर उड़ने वाली धूल हिमालयी क्षेत्रों में बर्फ के चक्र पर व्यापक प्रभाव छोड़ रही है. जबकि तेजी से पिघल रही हिमालयी बर्फ एक चिंता का विषय है.

इसे भी पढ़ेंः ई-सिगरेट के मामले में पैरेंट्स करते हैं बच्चों के धूम्रपान की अनदेखी: स्टडी

ग्लेशियर पिघलकर नदियों में जाकर गिर रहे हैं जो कि बर्फ पिघलने की प्रक्रियाओं में से एक हैं. शोध के मुताबिक, दक्षिण पूर्व एशिया के लगभग 700 मिलियन लोग मीठे पानी की जरूरतों के लिए हिमालय की बर्फ पर निर्भर हैं. वहीं, भारत और चीन की प्रमुख नदियां गंगा, ब्रह्मपुत्र, यंगेतेज और होंग ही जीव-जंतु और मानव जीवन, कृषि और पारिस्थितिक लिहाज से बेहद जरूरी हैं. आपको बता दें कि इन सभी नदियों का उद्गम भी हिमालय से होता है. शोधकर्ताओं ने कहा है कि इसलिए प्राकृतिक रूप से विश्लेषण करने के लिए इस तरह के अध्ययन जरूरी हो जाते हैं क्योंकि इन क्षेत्रों में बर्फ बहुत तेजी से पिघल रही है जो कि किसी बड़े खतरे का संकेत हो सकती है.

आपको बता दें कि नासा (NASA) द्वारा किए गए एक पूर्व अध्ययन में बर्फ की सतह पर जमी धूल, प्रदूषण और एरोसोल के स्तर को मापा गया था. इन धूल कणों (Dust) के परिणामस्वरूप होने वाली हिमालयों पर बर्फ पिघलने की घटना को एल्बिडो प्रभाव कहा जाता है. एल्बिडो प्रभाव में बर्फ की परतों पर कार्बन की मात्रा बढ़ जाती है जो रोशनी को अवशोषित कर लेती है. यही कारण है कि लोग काले रंग की बजाय सफेद रंग की कार लेना पसंद करते हैं क्योंकि यह गर्मी को काटता है.ये भी पढ़ें – कोरोना काल में बच्‍चों से जुड़ी परेशानियों पर यूनिसेफ ने दिए 5 सुझाव

ठीक इसी तरह हिमालयों की शुद्ध और चमकती सफेद बर्फ पर पड़ने वाली धूप की रोशनी आकाश में दूर-दूर तक फैलती है, लेकिन बर्फ पर जमे घने प्रदूषण और धूल के कारण बर्फ पर पड़ने वाली सूर्य की रोशनी की चमक फीकी पड़ने लगती है. क्योंकि प्रदूषण, धूल और एयरोसोल्स सूर्य की रोशनी से निकलने वाली किरणों को अवशोषित कर लेते हैं. शोध के मुताबिक, शहरीकरण से हिमालय पर धूल की मात्रा दिनों-दिन बढ़ रही है. वहीं वनों की कटाई, कृषि और बड़े पैमाने पर औद्योगिक निर्माण, धूल और प्रदूषण के बड़े स्रोत हैं.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *