इम्यूनिटी पावर बढ़ाते हैं अश्वगंधा और गिलोय, जान लें इनके गजब के फायदे
स्वास्थ्य

इम्यूनिटी पावर बढ़ाते हैं अश्वगंधा और गिलोय, जान लें इनके गजब के फायदे | health – News in Hindi

देश में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) थमने का नाम नहीं ले रहा है. इस बीच शरीर की इम्‍युनिटी बढ़ाने के लिए आयुर्वेद (Ayurveda) के इस्‍तेमाल की बात जोर पकड़ रही है. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय भी इस संबंध में गाइडलाइंस जारी कर चुका है. उसके अनुसार लोगों से इस महामारी के दौरान आयुर्वेद, अश्वगंधा (Aswagandha) और गिलोय (Giloy) समेत अन्‍य चीजों के इस्‍तेमाल की अपील की. वहीं बुधवार को संसद के मॉनसून सत्र में राज्‍यसभा में भी इन सभी चीजों पर चर्चा हुई. दरअसल संसद में बुधवार को आयुर्वेद शिक्षण और अनुसंधान विधेयक पर चर्चा हुई. इस दौरान सांसदों ने आयुर्वेद, अश्‍वगंधा, गिलोय और एलोवेरा पर चर्चा की. इसके बाद संसद ने बुधवार को आयुर्वेद शिक्षण और अनुसंधान विधेयक को पारित कर दिया. आइए आपको बताते हैं कैसे आपके शरीर के लिए अश्वगंधा और गिलोय मददगार साबित हो सकते हैं.

अश्वगंधा
अश्वगंधा प्राचीन काल से आयुर्वेद में उपचार होने वाली एक कारगर औषधि है. हजारों सालों से इसका इस्तेमाल कई गंभीर बीमारियों के लिए किया जाता रहा है. आयुर्वेद विशेषज्ञों का मानना है कि अश्वगंधा का इस्तेमाल कई शारीरिक समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है. इसमें सेहत के लिए कई छोटे-बड़े गुण छिपे हुए हैं. शारीरिक कमजोरी को बढ़ाने के लिए अश्वगंधा रामबाण है. आइए आपको बताते हैं अश्वगंधा के कुछ फायदों के बारे में.

अश्वगंधा के फायदेसेक्स पावर बढ़ाने में मददगार

अगर आप सेक्स पावर, सेक्स में इच्छी की कमी, स्पर्म की खराब क्वालिटी, शीघ्रपतन जैसी समस्याओं से परेशान हैं तो अश्वगंधा का सेवन जरूर करें. इसमें एक ऐसी शक्तिवर्धक औषधि मौजूद है, जो पुरुषों में यौन क्षमता को दुरुस्त करने में मददगार है. अश्वगंधा का सेवन करने से स्पर्म क्वालिटी भी अच्छी होती है.

इसे भी पढ़ेंः क्या आप दिन में कई बार चीजें भूल जाते हैं, मेमोरी बढ़ाने के लिए अपनाएं ये टिप्स

तनाव कम करने में मददगार
आजकल ज्यादातर इंसान तनाव की समस्या से जूझ रहे हैं. यदि किसी कारणवश तनाव, चिंता, मानसिक समस्या है, तो अश्वगंधा का सेवन जरूर करना चाहिए. इसमें मौजूद औषधीय गुण तनाव दूर करने में मदद करते हैं. अश्वगंधा में मौजूद एंटी-स्ट्रेस गुण तनाव से राहत दिलाता है.

इम्यूनिटी स्ट्रॉन्ग बनाता है
अश्वगंधा के सेवन से इम्यूनिटी भी स्ट्रॉन्ग होती है. आपको बता दें कि इम्यून सिस्टम के मजबूत होने से शरीर जल्द बीमार नहीं पड़ा है. खासकर लोग सर्दी-जुकाम और खांसी से दूर रहने में सक्षम हो पाते हैं.

नींद न आने की समस्या को करता है दूर
क्या आप रात में सोते समय बिस्तर पर करवट बदलते रहते हैं. इसका मतलब है कि आपको अच्छी नींद नहीं आती है. ऐसे में अश्वगंधा का सेवन इस समस्या के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है. एक अध्ययन के मुताबिक बताया गया है कि अश्वगंधा की पत्तियों में ट्राइथिलीन ग्लाइकोल नाम का यौगिक मौजूद होता है, जो पर्याप्त और सुकून भरी नींद लेने में सहयोग करता है.

कोलेस्ट्रॉल कम करने में मददगार
अश्वगंधा का सेवन करने से दिल संबंधित बीमारियों का खतरा कम हो जाता है क्योंकि इसमें पाए जाने वाले एंटीआक्सीडेंट और एंटीइंफ्लेमेटरी गुण कोलेस्ट्रॉल को कम करने में सहायक होते हैं. इसके सेवन से दिल की मांसपेशियां मजबूत होती हैं और बैड कोलेस्ट्रॉल लेवल कम होता है.

डायबिटीज के खतरे को करता है कम
आज के समय में लोग डायबिटीज से ग्रसित होते जा रहे हैं. कहते हैं कि यह एक ऐसी बीमारी है, जिसका इलाज सिर्फ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी से संभव हो सकता है. अश्वगंधा के सेवन से डायबिटीज को कंट्रोल किया जा सकता है.

लिवर संबंधी रोगों को करता है ठीक
अश्वगंधा में पाए जाने वाले एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण लिवर में होने वाली सूजन की समस्या दूर करने में सहायक होता है. यह सूजन कम करता है. अगर रात में सोने से पहले दूध के साथ इसका सेवन किया जाए तो काफी फायदेमंद होता है. यह फैटी लिवर की समस्या को भी कम करता है.

गिलोय
गिलोय (Giloy) एक बहुवर्षायु लता है. आयुर्वेद (Ayurveda) में इसको कई नाम से पुकारा जाता है जिनमें यथा अमृता, गुडुची, छिन्नरुहा, चक्रांगी मुख्य हैं. बहुवर्षायु तथा अमृत के समान गुणकारी होने के कारण इसका नाम अमृता भी है. आयुर्वेद में इसे महान औषधि (Medicine) माना गया है. इसके पत्ते (Leaf) बिल्कुल पान के पत्ते की तरह दिखाई देते हैं. गिलोय की लता जंगलों, खेतों की मेड़ों, पहाड़ों की चट्टानों पर कुण्डलाकार में चढ़ती हुई पाई जाती हैं. गिलोय की पत्त‍ियों में कैल्शि‍यम, प्रोटीन, फॉस्फोरस अधिक मात्रा में पाया जाता है. इसके अलावा इसके तनों में स्टार्च की भी अच्छी मात्रा मौजूद होती है.

गिलोय के फायदे

इम्यून सिस्टम को पावरफुल बनाती है
गिलोय का इस्तेमाल कई तरह की बीमारियों को दूर करने के लिए किया जाता है. ये एक सुपर पावर ड्रिंक भी है. ये इम्यून सिस्टम को पावरफुल बनाती है, जिसकी वजह से कई तरह की बीमारियों से सुरक्षा मिलती है. गिलोय की पत्तियां बैक्टीरिया और वायरस जनित कई बीमारियों को जड़ से खत्म करने की क्षमता रखती हैं. पहले के समय में भी गिलोय का इस्तेमाल बुखार को ठीक करने के लिए किया जाता रहा है. गिलोय का काढ़ा कई दिन तक लगातार सेवन करने से पुराने से पुराना बुखार भी तुरंत ठीक हो जाता है.

नजर आता है स्किन में निखार
यह एक एंटीऑक्सिडेंट की तरह काम करती है जो कि झुर्रियों से लड़ने में मदद करती है. इसके अलावा यह कोशिकाओं को स्वस्थ और निरोग रखने में अहम भूमिका निभाती है. गिलोय की पत्तियां शरीर से टॉक्सिन को बाहर निकालती हैं. खून को साफ करती हैं और बीमारियों से लड़ने वाले बैक्टीरिया की रक्षा करती हैं. इसके अलावा यह यूरीन की समस्या से भी निजात दिलाती हैं.

पाचन शक्ति होती है मजबूत
पाचन में सुधार और आंत संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए गिलोय बहुत फायदेमंद होती है. रोजाना आधा ग्राम गिलोय के साथ आंवला पाउडर लेने से पाचन शक्ति मजबूत होती है. कब्ज के इलाज के लिए इसको गुड़ के साथ सेवन करना चाहिए.

इसे भी पढ़ेंः मेंटल हेल्थ पर कुछ इस तरह असर करता है गांजा, नशे से हो सकता है ये नुकसान

डायबिटीज में फायदेमंद
गिलोय की पत्तियां एक हाइपोग्लाइसेमिक एजेंट के रूप में काम करती हैं और विशेष रूप से टाइप 2 डायबिटीज के इलाज में मददगार हैं. गिलोय का रस शरीर में इंसूलिन की मात्रा को कंट्रोल में रखता है.

सांस संबंधी बीमारियों में फायदा
गिलोय के इस्तेमाल से सांस संबंधी बीमारियां जैसे अस्थमा और खांसी में फायदा होता है. इसे नीम और आंवला के साथ मिलाकर इस्तेमाल करने से त्वचा संबंधी रोग जैसे एग्जिमा और सोराइसिस की समस्या से भी छुटकारा मिलता है. इसे पीलिया और कुष्ठ रोगों के इलाज में भी कारगर माना जाता है. यह गठिया और आर्थेराइटिस में भी फायदेमंद है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *