इन 5 आदतों को बनाएं अपनी जिंदगी का हिस्सा, खुशहाल होगी लाइफ
स्वास्थ्य

इन 5 आदतों को बनाएं अपनी जिंदगी का हिस्सा, खुशहाल होगी लाइफ

Science-Based 5 Good Habits : कहते हैं कि अगर लाइफ में अच्छी आदतों को अपना लिया जाए, तो जिंदगी की आधी मुश्किलें तो वैसे ही आसान हो जाती है. यहां अच्छी आदतों से मतलब आपके खानपान और लाइफस्टाइल से जुड़ी आदतों से हैं. यानी अगर आप अपने जीवन में बदलाव लाना चाहते हैं तो आदतों में बदलाव लाइए. क्योंकि अच्छी आदतें न केवल आपको हेल्दी रहने में मदद करती है, बल्कि ये मोटापा कम करने में भी मददगार होती है. अच्छी आदतों से बीमारियों की आशंका भी कम होती है. दैनिक भास्कर अखबार में छपी खबर के मुताबिक, अमेरिकन काउंसिल ऑन एक्सरसाइज के अनुसार अच्छी आदतों वाले व्यक्ति का जीवन तुलनात्मक रूप से 30 प्रतिशत तक अधिक लंबा होता है. यानी अगर हम अपने डेली लाइफ में किए जाने वाले कामों और खानपान की आदतों में ही कुछ बदलाव लेकर आते हैं, तो इससे हम अपनी लाइफ के कुछ साल और बढ़ा सकते हैं.

इस लेख में ऐसी ही कुछ आदतों के बारे में बताया गया है. जैसे हमें कब कितना खाना चाहिए, पानी कितना पीना चाहिए, व्यायाम कौन सा करना चाहिए. मन और शरीर के बीच संतुलन बनाने के लिए क्या करना चाहिए आदि. आप भी जानिए कि क्या हैं ये 5 अच्छी आदतें और इनसे आपके शरीर को क्या फायदे होंगे.

ड्राइविंग करने के पहले पानी जरूर पिएं
कहते हैं ज्यादा पानी पीना सेहत के फायदेमंद है. इसलिए सलाह दी जाती है कि ड्राइविंग करने से पहले पानी जरूर पीएं, क्योंकि जर्नल साइकोलॉजी एंड बिहेवियर के अनुसार शरीर में पानी की जरी सी भी कमी ड्राइवर का ध्यान भटका सकती है. पानी की कमी दिमाग की सामंजस्य बैठाने की क्षमता को सीधा प्रभावित करती है.

सुबह हमेशा भारी नाश्ता करें
मैगजीन ईएनडीओ के अनुसार जो लोग हैवी नाश्ता करते हैं उनमें मोटापे की आशंका घटती है. इंसुलिन की जरूरत कम होती है. हैवी नाश्ता दोपहर व रात के भोजन की मात्रा को कम कर देता है.

यह भी पढ़ें-
क्या पीरियड्स में दौड़ना सेहत के लिए होता है अच्छा? ये रहे फायदे-नुकसान

पेन और पेपर पर लिखने की आदत डालें
साइकोलॉजी साइंस के अनुसार हाथ से लिखने पर ब्रेन में पाए जाने वाले न्यूरॉन्स एक्टिव होते हैं, जिससे ब्रेन के सामंजस्य बैठाने और सीखने की क्षमता बढ़ती है.

20 सेकंड के लिए वन लेग स्टैंड एक्सरसाइज
जापानी रिसर्चर्स के अनुसार जो लोग 20 सेकंड भी एक पैर पर संतुलन नहीं बना सकते हैं उनमें स्ट्रोक और डिमेंशिया के लिए जिम्मेदार सरेब्रल स्मॉल ब्लड वेसेल डिजीज का खतरा ज्यादा होता है. यदि इस एक्सरसाइज को कम से कम 20 सेकंड तक किया जाए तो ब्रेन की क्षमता बढ़ती है.

यह भी पढ़ें-
Mood swings in women: बार-बार होता है मूड स्विंग? जानें वजह और कंट्रोल करने का तरीका

फोन पर बात करते समय खड़े हो जाएं
लिपिड्स इन हेल्थ एंड डिजीज (lipids in health and disease) के अनुसार लंबे समय तक बैठने से शरीर में ट्राई ग्लिसराइड की मात्रा बढ़ती है. गुड कोलेस्ट्रॉल घटता है. इससे हार्ट अटैक और स्ट्रोक की आशंका बढ़ती है. इस खतरे को कम करने का आसान तरीका है कि जब भी फोन पर बात करें खड़ो हो जाएं या टहलें.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.