इन 3 कारणों से आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता हो सकती है कमजोर, बना लें इनसे दूरी
स्वास्थ्य

इन 3 कारणों से आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता हो सकती है कमजोर, बना लें इनसे दूरी

Causes of weak immunity: कोरोना महामारी (Corona pandemic) के दौर में हर किसी के लिए जरूरी है शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) को मजबूत बनाए रखना, ताकि आप किसी भी तरह के इंफेक्शन, बीमारियों से खुद को सुरक्षित रख सकें. इम्यूनिटी बूस्ट करना क्यों जरूरी है, किस तरह से इसे स्ट्रॉन्ग बनाया जा सकता है, इस बारे में तो खूब सलाह, टिप्स आपको मिल जाते हैं, लेकिन रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर क्यों होती है, ये भी जानना जरूरी है. इम्यूनिटी कमजोर होने की कई वजहें हैं, जिसके बारे में अक्सर लोगों को जानकारी नहीं होती है. क्लिनिकल न्यूट्रिशनिस्ट अंशुल जयभारत कहती हैं कि कई तरह कई फूड्स ऐसे होते हैं, जो इम्यूनिटी को बूस्ट करते हैं, लेकिन कुछ चीजें हैं, जो आपकी प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को कम भी कर सकती हैं और आपको संक्रमण से ग्रस्त कर सकती हैं. जानें, किन कारणों से रोग प्रतिरोधक क्षमता होती है कमजोर.

शारीरिक तनाव

अंशुल जयभारत बताती हैं कि शारीरिक तनाव (Physical Stress) काफी हद तक रोग प्रतिरोधक क्षमता को कमजोर करते हैं. हमें सप्ताह में कम से कम 3 घंटे किसी भी रूप में व्यायाम करना चाहिए वरना हमारा मेटाबॉलिज्म प्रभावित हो सकता है. हमारे शरीर को हेल्दी रहने के लिए एक्सरसाइज, स्वस्थ खानपान, अच्छी नींद बेहद जरूरी होती है. अगर कोई व्यक्ति इन तीनों ही चीजों को सही से फॉलो नहीं करता है, तो आपका शरीर किसी भी वायरस से आपकी रक्षा नहीं करेगा. जरूरी है कि आप शारीरिक तनाव को कम करने की कोशिश करें, ताकि इम्यूनिटी बूस्ट हो.

इसे भी पढ़ें: प्रोबायोटिक के इस्तेमाल से बढ़ सकती है रोग प्रतिरोधक क्षमता-रिसर्च

मानसिक तनाव

मानसिक तनाव (Mental Stress) अधिक लेने से भी रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रभावित होती है. जब हम अधिक तनाव में होते हैं, तो एंटीजेंस से लड़ने की प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता कम हो जाती है, इसलिए हम संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील होते हैं. अगर आप मानसिक तनाव को मैनेज करने में सक्षम नहीं हैं, तो किसी एक्सपर्ट की सलाह जरूर लें.

ये भी पढ़ें : कहीं आपकी इम्‍यूनिटी कमजोर तो नहीं? ऐसे करें चेक

पर्यावरण तनाव

कई बार शरीर की इम्यूनिटी पर्यावरण तनाव (Environmental Stress) जैसे प्रदूषण, एलर्जेंस, केमिकल्स से भी कम हो जाती है. ये सभी हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली का टेस्ट लेते हैं. शरीर को प्राकृतिक वातावरण में होने वाले परिवर्तनों के लिए नियमित रूप से काम करने की आवश्यकता होती है.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.