आयुर्वेद में है गले की परेशानी का सटीक इलाज, आप भी आजमाएं
स्वास्थ्य

आयुर्वेद में है गले की परेशानी का सटीक इलाज, आप भी आजमाएं | health – News in Hindi

गले में खराश या दर्द होने पर सबसे अच्छा उपाय आयुर्वेद में है. आयुर्वेद का ये घरेलू नुस्खे अपनाकर परेशानी से छुटकारा पाया जा सकता है.

कई बार गलत खानपान से गला खराब (Throat Problem) हो जाता है. ज्यादा खट्टा खाने या ठंडी चीजों का सेवन कर लेने से भी गले में दिक्कत होने लगती है.



  • Last Updated:
    September 24, 2020, 6:33 AM IST

गले में किसी भी तरह की परेशानी (Throat Problem) हो तो पूरे समय असहज महसूस होता है. एलर्जी (Allergy) या फ्लू (Flu) की वजह से अक्सर गले में खराश महसूस होती है और ऐसे में दर्द (Pain) भी होता है. कुछ लोगों को मीठे या दूध-दही से एलर्जी होती है और इनका सेवन करते ही गले में खराश शुरू हो जाती है. वहीं मौसम बदलने के साथ गले की तकलीफ बढ़ जाती है. कई बार तो खाना-पीना भी मुश्किल लगता है. कई बार गलत खानपान से भी गला खराब हो जाता है. ज्यादा खट्टा खाने या ठंडी चीजों का सेवन कर लेने से भी गले में दिक्कत होने लगती है. myUpchar से जुड़े डॉ. लक्ष्मीदत्ता शुक्ला का कहना है कि गले में खराश या दर्द होने पर सबसे अच्छा उपाय आयुर्वेद में है. आयुर्वेद का ये घरेलू नुस्खे अपनाकर परेशानी से छुटकारा पाया जा सकता है. अगर गले में ज्यादा खराश है तो डॉक्टर के पास जरूर जाएं लेकिन अगर खराश कम या हल्की है तो इस समस्या को घरेलू उपाय से भी दूर किया जा सकता है.

मुलेठी

गले में खराश और दर्द से राहत पाने के लिए मुलेठी का इस्तेमाल पानी में डालकर गरारे करने के लिए करें. मुलेठी में मौजूद एस्पिरिन गुण इस परेशानी से छुटकारा दिलाने के लिए काफी हैं. हालांकि, गर्भवती और स्तनपान कराने वाले महिलाओं को इस घरेलू उपचार को नहीं करना चाहिए.दालचीनी

हर घर के किचन में मौजूद दालचीनी का इस्तेमाल खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है, लेकिन इस मसाले में कई औषधीय गुण भी हैं. आयुर्वेदिक औषधियों में भी कई वर्षों से दालचीनी का इस्तेमाल किया जा रहा है. लौंग के बाद दालचीनी सबसे बेहतरीन एंटीऑक्सीडेंट है. इसमें एंटीबैक्टीरियल गुण भी होते हैं. सर्दी-जुकाम और फ्लू में इसका इस्तेमाल करने पर गले में होने वाली दिक्कतों से छुटकारा मिलता है. इसे बादाम के दूध में डालकर पीने से गले की खराश में आराम मिलेगा.

शहद

शहद को स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है और इसमें अनेक औषधीय गुण होते हैं. औषधीय गुणों के कारण शहद को आयुर्वेद में भी महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है. इसे अन्य सामग्रियों के साथ मिलाकर गले की खराश दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. यह दर्द से राहत दिलाता है और संक्रमण से लड़ने में मदद करता है. रोजाना गुनगुने पानी में एक बड़ा चम्मच शहद मिलाकर पीने से गले में फायदा होता है.

अदरक

गले में खराश, जलन, दर्द जैसी समस्या से छुटकारा पाने के लिए रोजाना अदरक की चाय पिएं. अदरक एक प्राकृतिक एनाल्जेसिक और दर्द निवारक है इसलिए इसे गले के दर्द और जलन को शांत करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. यह खांसी कम करने में भी मदद करता है.

नमक

गले के बैक्टीरिया को मारने के लिए गुनगुने पानी में नमक डालकर गरारे करें. इससे गले की खराश में बहुत आराम मिलेगा. एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच नमक मिलाकर एक घूंट मुंह में लें. दस सेकंड के लिए इससे गरारे करें और पानी थूक दें. यह प्रक्रिया दिन में दो से तीन बार दोहराएं. गले की खराश दूर करने का यह भी एक कारगर उपाय है.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, गले में दर्द के प्रकार, लक्षण, कारण, बचाव, इलाज, परहेज और दवा पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *