आम लोगों से ज्यादा तेज नहीं होता रॉकेट साइंटिस्ट और ब्रेन सर्जन का दिमाग - स्टडी
स्वास्थ्य

आम लोगों से ज्यादा तेज नहीं होता रॉकेट साइंटिस्ट और ब्रेन सर्जन का दिमाग – स्टडी

कोई भी काम कितना मुश्किल है, इसका उदाहरण देते वक्त लोग अक्सर उसकी तुलना रॉकेट साइंस (Rocket Science) से करते हैं. कोई भी अकल्पनीय काम जब समझ नहीं आता होता है, तो उसके लिए कहा जाता है, ये भला क्या रॉकेट साइंस है? इतना ही नहीं, अक्सर लोग इस वाक्य का इस्तेमाल किसी काम को बहुत आसान बताने के लिए भी करते हैं. जैसे ‘यह कोई रॉकेट साइंस नहीं है.’ कई बार लोग यह भी कहते हैं कि ‘ये बात ब्रेन सर्जरी (Brain Surgery) जितनी कठिन भी नहीं है.’ इन दोनों वाक्यों के इस्तेमाल के पीछे धारणा यह रही है कि रॉकेट साइंस और ब्रेन सर्जरी को समझना बहुत कठिन काम है. इस फील्ड में काम करने वाले रॉकेट साइंटिस्ट और ब्रेन सर्जन (Neurosurgeon) का दिमाग बहुत तेज होता है. हालांकि, एक स्टडी में इस धारणा से बिल्कुल उलट दावा किया गया है. रिसर्चर्स ने स्टडी में पाया कि ऐसा जरूरी नहीं कि रॉकेट साइंटिस्ट और ब्रेन सर्जन का दिमाग आम लोगों की तुलना में तेज हो. इस स्टडी के निष्कर्षों को बीएमजे (BMJ) मेडिकल जर्नल में प्रकाशित किया गया है.

रिसर्चर्स ने 329 एयरोस्पेस इंजीनियर्स (Aerospace Engineers) और 72 न्यूरोसर्जन्स के इंटरनेशनल ग्रुप के डेटा की जांच की. इन सभी ने ग्रेट ब्रिटिश इंटेलिजेंस टेस्ट (JBI) के जरिए 12 कामों को ऑनलाइन पूरा किया था. साथ ही उन्होंने अपनी उम्र, लिंग और एक्सपीरियंस के लेवल के बेस्ड पर कुछ सवालों के जवाब दिए.

कैसे हुई स्टडी
रिसर्चर्स ने बताया कि इस स्टडी के दौरान उनकी प्लानिंग, लॉजिक कैपिसिटी, चीजों को याद रखने की क्षमता, उनका चीजों पर ध्यान देने की क्षमता, उनकी भावनाओं को प्रॉसेस करने की क्षमता आदि शामिल थे. इसके बाद रिसर्चस ने इन रिजल्ट की तुलना सामान्य लोगों से की, जिन्होंने ठीक उन्हीं 12 कार्यों को उसी तरह से ऑनलाइन पूरा किया हुआ था. रिसर्चर्स ने बताया कि सामान्य लोगों में ब्रिटेन के करीब 18,000 लोगों का डेटा शामिल है.

यह भी पढ़ें-
भूख ना लगने की है परेशानी तो इन घरेलू नुस्खों से बढ़ाएं अपनी भूख

न्यूरोसर्जन थोड़े तेज पाए गए
रिसर्चर्स ने पाया कि सिर्फ न्यूरोसर्जन में थोड़ा अंतर देखने को मिला, जिनकी समस्याओं को सुलझाने की स्पीड सामान्य आबादी की तुलना में तेज थी. हालांकि, उनका चीजों को याद करने की क्षमता सामान्य आबादी के मुकाबले धीमी थी.

यह भी पढ़ें-
एलर्जी-अस्थमा की दवाएं लेने वालों को 40 % कम होता है कोरोना संक्रमण का खतरा- स्टडी

स्टडी में आगे कहा गया कि एयरोस्पेस इंजीनियर ने किसी भी क्षेत्र में सामान्य आबादी से बेहतर प्रदर्शन नहीं किया. हालांकि, एयरोस्पेस इंजीनियर की मेंटल मैनिप्युलेशन क्षमता (Mental Manipulation Ability) और चीजों पर ध्यान देने की क्षमता न्यूरोसर्जन के मुकाबले बेहतर थी.

Tags: Brain, Health, Health News, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.