अगर आप भी करते हैं नाइट शिफ्ट में काम तो इन बातों को जान लेना होगा बेहतर
स्वास्थ्य

अगर आप भी करते हैं नाइट शिफ्ट में काम तो इन बातों को जान लेना होगा बेहतर

कई लोग अपने काम को लेकर काफी सीरियस होते हैं. डे शिफ्ट हो या नाइट शिफ्ट (Night Shift) ऐसे लोग हर हालत में पूरी लगन के साथ अपना पूरा करने में यकीन रखते हैं. बेशक ये एक अच्छी आदत है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि नाइट शिफ्ट में काम करना आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक (Side Effects) भी हो सकता है. जी हां, रात में काम करने से आपका स्वास्थ्य न सिर्फ शारीरिक, बल्कि मानसिक रूप से भी काफी प्रभावित होता है.

आमतौर पर डॉक्टर्स, नर्स, पायलेट, सिक्योरिटी गार्ड जैसे अनगिनत प्रोफेशन में लोगों को नाइट शिफ्ट में काम करना पड़ता है. लेकिन, नाइट शिफ्ट में काम करते समय कुछ बातों का खास ख्याल रखकर सेहत के साथ समझौता करने से बचा जा सकता है.

नाइट शिफ्ट में काम करने के साइड इफेक्ट
एक्सपर्ट के अनुसार रात को काम करने के चलते लोगों का स्लीपिंग साइकल प्रभावित होता है. जिसके कारण मेटाबॉलिज्म में कमी आना, मोटापा, पाचन तंत्र खराब होना और कई और तरह की परेशानी होने की संभावना बनी रहती है. लेकिन अगर आप चाहें तो कुछ आसान तरीकों की मदद से इन परेशानियों की संभावना को कम कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें: Sleeping Tips: सुकून की नींद पाने में मदद करेंगी ये स्लीपिंग पोजिशन

भरपूर नींद लेना जरूरी
नींद पूरी ना होने के कारण थकान, चिड़चिड़ापन और तनाव आम बात होती है. ऐसे में हेल्दी रहने के लिए स्लीपिंग साइकल पूरा करना बेहद जरूरी होता है. एक्सपर्ट के मुताबिक रात में जागने से शरीर में सर्कैडियन रिदम पर असर पड़ता है. जिससे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य भी प्रभावित होता है. इसलिए दिन में कम से कम 6-7 घंटे की नींद लेने की कोशिश करें.

डाइट का रखें खास ख्याल
नाइट शिफ्ट में काम करने और सही डाइट ना लेने के चलते मोटापा और मेटाबॉलिज्म सिंड्रोम का जोखिम होने की संभावना बनी रहती है. ऐसे में जंक फूड का सेवन कम से कम करने की कोशिश करें और पोषक तत्वों से भरपूर चीजों को अपनी डाइट में शामिल करें.

ये भी पढ़ें: Tips to Avoid Insomnia: आसानी से नहीं आती नींद? फॉलो करें ये टिप्स

चाय और कॉफी से बनाएं दूरी
कई लोग रात में जागने के लिए चाय और कॉफी पीना पसंद करते हैं. क्योंकि इनमें मौजूद कैफीन नामक तत्व बॉडी को एक्टिव रखने में मदद करता है. हालांकि शरीर में कैफीन की मात्रा बढ़ने के चलते गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल और मांसपेशियों में कंपन शुरू हो सकती है. इसलिए चाय और कॉफी का सेवन सीमित मात्रा में ही करना उचित रहता है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.